सावधान रहे फ्रॉड करने वाले शातिरो से : गिरोह का हुआ पर्दाफाश, आठ गिरफ्तार, 300 फोन बरामद

सावधान रहे फ्रॉड करने वाले शातिरो से : गिरोह का हुआ पर्दाफाश, आठ गिरफ्तार, 300 फोन बरामद Pradakshina Consulting PVT LTD Support Us
  • मीडिया में आई खबरों के मुताबिक सुरक्षा एजेंसियों ने ‘फ्रॉड टू फोन’ नेटवर्क  का पर्दाफाश करते हुए आठ लोगों को गिरफ्तार किया है. पकड़े गए लोगों के पास से लगभग 300 नए मोबाइल फोन बरामद किए गए हैं जो उन्होंने चोरी की रकम से खरीदे थे. अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी. इस शातिर गिरोह का नेटवर्क देश के कई राज्यों में फैला हुआ था. अधिकारियों ने बताया कि इसके अलावा इस गिरोह के 900 मोबाइल फोन, 1000 बैंक खाते और सैकड़ों एकीकृत भुगतान इंटरफेस (UPI) और ई-कॉमर्स आईडी की भी पहचान की गई है और इसकी जांच जारी है. उन्होंने कहा कि सुरक्षा एजेंसियों ने अब तक करीब 100 बैंक खातों और डेबिट व क्रेडिट कार्ड के लेन-देन पर भी रोक लगाई है.
  • गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने मीडिया से चर्चा के दौरान बताया कि कुल मिलाकर ‘फ्रॉड टू फोन’ (एफ2पी) गिरोह के आठ मास्टरमाइंड गिरफ्तार किए गए हैं जिनमें से चार झारखंड के जबकि मध्य प्रदेश और आंध्र प्रदेश से दो-दो आरोपी शामिल हैं. उन्होंने कहा कि इन लोगों के पास से चोरी की रकम से खरीदे गए करीब 300 नए मोबाइल फोन भी जब्त किये गए हैं।

सावधान रहे फ्रॉड करने वाले शातिरो से : गिरोह का हुआ पर्दाफाश, आठ गिरफ्तार, 300 फोन बरामद Pradakshina Consulting PVT LTD

  • गिरोह के खिलाफ अभियान 18 राज्यों में चला और इसमें 350 लोग शामिल थे. यह अभियान केंद्रीय गृह मंत्रालय की साइबर सुरक्षा शाखा एफसीओआरडी, मध्य प्रदेश पुलिस और कुछ अन्य राज्यों के पुलिस बलों ने विशिष्ट सूचना पर चलाया था.
सुरक्षा एजेंसियों और पुलिस ने 18 राज्यों में
गिरोह के खिलाफ चलाया अभियान
  • एक अधिकारी ने बताया कि उदयपुर निवासी 78 वर्षीय एक बुजुर्ग व्यक्ति ने बीते 11 जून को साढ़े छह लाख रुपये की साइबर ठगी की शिकायत गृह मंत्रालय द्वारा संचालित साइबरसेफ ऐप पर दी थी. एफ2पी कॉल करने वाला झारखंड से ऑपरेट कर रहा था. जांच के दौरान सामने आया कि ठगी गई रकम सीधे तीन एसबीआई कार्ड में जमा हुई, जिनका इस्तेमाल फ्लिपकार्ट से 33 चीन निर्मित श्योमी पोको एम3 मोबाइल फोन खरीदने के लिये किया गया. कुछ ही मिनटों के अंदर यह सूचना प्राप्त कर ली गई कि मध्य प्रदेश के बालाघाट में यह फोन किस पते पर मंगाए गए और बालाघाट के पुलिस अधीक्षक (एसपी) को इस बारे में सूचित किया गया.
  • एक अन्य अधिकारी ने बताया कि मध्य प्रदेश पुलिस मास्टरमाइंड को पकड़ने में सबसे प्रभावी रही और उसके पास से सभी 33 नए मोबाइल फोन के अलावा कुछ अन्य फोन भी बरामद हुए. वहीं, झारखंड पुलिस ने एफ2पी कॉलर को गिरफ्तार किया. एफ2पी गिरोह ने यह फोन करीब 10,000 रुपये प्रतिफोन के हिसाब से खरीदे थे और उन्हें पांच से 10 प्रतिशत की छूट के साथ ब्लैक मार्केट में बेच देते थे.
  • बता दें कि एफ2पी गिरोह में सैकड़ों सदस्य होते हैं जो एक लेनदेन के विभिन्न चरणों का संचालन करते हैं जिनमें ओटीपी फ्रॉड, क्रेडिट कार्ड फ्रॉड, ई-कॉमर्स फ्रॉड, फर्जी आईडी, फर्जी मोबाइल नंबर, फर्जी पता, काला बाजारी, कर चोरी, धन शोधन और चोरी के सामान की खरीद-फरोख्त शामिल है।
  • आरोपियों से इस बाबत भी पूछताछ की जा रही है कि वो चीन में बने मोबाइल फोन को ही क्यों तरजीह देते थे, विशेष रूप से श्योमी द्वारा बनाए गए फोन को. ‘साइबरसेफ’ एफसीओआरडी द्वारा निर्मित एक ऐप्लीकेशन है जिसका संचालन अगस्त 2019 से किया जा रहा है।

सावधान रहे फ्रॉड करने वाले शातिरो से : गिरोह का हुआ पर्दाफाश, आठ गिरफ्तार, 300 फोन बरामद Pradakshina Consulting PVT LTD

जवाब दो भूपेश सरकार : कांग्रेस की कुप्रबंधन पर प्रीतेश गांधी व डीपेन्द्र साहू ने दागे सवाल

बंगाल की सियासत : मुख्यमन्त्री ममता बनर्जी राज्यपाल जगदीप धनखड़ पर भड़की, कहा- खत में लिखी बातें सच नहीं

टूलकिट मामले में काँग्रेस को झटका..

बाजार : खाद्य तेल 2 दिन बाद 50 रुपये लीटर तक सस्ते हो सकते हेै – जानिए कैसे

मां का दूध पीकर कोरोना को मात दे रहे हैं नौनिहाल, पढ़े खबर

हेल्थ एंड फिटनेस : बरगद का फल है काफी उपयोगी, हार्ट डिजीज से लेकर डायबिटीज तक को करता है कंट्रोल

Support Us

Leave a Reply

Your email address will not be published.