ठगों से सावधान : वरिष्ठ पत्रकार की फेसबुक पर फर्जी आईडी बनाकर सायबर ठग कर रहें हैं ठगी

ठगों से सावधान : वरिष्ठ पत्रकार की फेसबुक पर फर्जी आईडी बनाकर सायबर ठग कर रहें हैं ठगी Pradakshina Consulting PVT LTD Support Us

सावधानी ही ऑनलाइन

फ्रॉड से बचा सकती है।

—————

  • रायपुर/एक्ट इंडिया न्यूज/07/05/2021
  • क्लोन फेसबुक आई डी से सायबर ठगो ने कोरोना काल को और संकटमय बनाया। एक तो कोरोना की दहशत ऊपर से सायबर ठगों  की काली करतूतें लोगो का जीना हराम किये हुए है। विदेशी मीडिया जब इंडियंस को कालाबाज़ारी, मुनाफाखोर और मिलावटखोर बता रहा हो तब लोगों की मदद करने की जगह मक्कार धोखेबाज़ जले में नमक छिड़कने का काम कर रहे है, फेसबुक की क्लोन आई डी यानी डुप्लीकेट अकाउंट बनाकर उसी अकॉउंट के परिचितों को मैसेज कर ऑनलाइन मनी ट्रांसफर का खेल पिछले लॉक डाउन से शुरू हुआ और अब फिर लॉक डाउन में जोरो पर चल रहा है।
  • वैसे तो कई लोग जानते है। लेकिन अभी भी बड़ी संख्या में लोग जागरूक नहीं हुए है जो दुर्भागय जनक है। ताज़ा मामला सेलिब्रिटी तपेश जैन का है जिनके फेसबुक में पांच हज़ार से ज्यादा फ्रेंड है और इतने ही फॉलोवर्स है। अपनी रोजाना पोस्ट और विडिओ से लोकप्रिय श्री जैन के नाम से यानी डुप्लीकेट फेसबुक एकाउंट से एक ही दिन में बड़ी संख्या में फ्रेंड रिक्वेस्ट सेंड किये गए जो स्वीकार भी हो गए क्युकी तपेश जैन की लोकप्रियता है और फिर धड़ाधड़ मेसेज पर मेसेज की जल्दी पैसा ट्रांसफर करो।
  • तत्काल कुछ लोगों द्वारा जब श्री जैन को सूचना दी गई तो उन्होंने फेसबुक और व्हाट्स ऍप के माध्यम से बड़ी संख्या में दोस्तों को आगाह किया की वो सतर्क रहे और किसी प्रकार का लेनदेन नहीं करे। सायबर सेल में शिकायत के बाद पता चला की राजस्थान और हरियाणा बॉर्डर के पास भरतपुर – मेवात  में बड़ी संख्या में ठगों का जमवाड़ा है जो बिहार के जामताड़ा की तरह ही मक्कारी में जुटा है।
  • सायबर सेल के जानकारों के मुताबिक फेसबुक के सेटिंग में प्रायवेसी में अपना ईमेल आईडी, मोबाइल नम्बर हमेशा लॉक रखे, पब्लिक की जगह सिर्फ दोस्तों से में ही पोस्ट शेयर करे, प्रोफाइल भी लॉक करने के साथ फ्रेंड लिस्ट भी लॉक करना जरुरी है ताकि धोखेबाज़ की नज़र आपके अकॉउंट को न लगे। डुप्लीकेट फेसबुक के साथ ही बैंक अकॉउंट की डिटेल पासवर्ड, पिन, ओटीपी, सीवीवी किसी को भी न बताये। रायपुर पुलिस ने फेसबुक में पेज बनाया है उससे जुड़कर लोग जागरूक बन सकते है और दूसरो को भी ठगी से बचा सकते है।
  • कोरोना की दूसरी लहर जहां साँसत में डाले हुए है वहीं मानवता को शर्मसार करने वाली घटनाएं  दवाईओ की कालाबाज़ारी, नकली सैनीटाइज़र, खाद्य वस्तुओं में मुनाफाखोरी से भारतीयों का सिर शर्म से झुक गया है और कहा ये जा रहा की कोरोना से ज्यादा खतरनाक आदमी है जो विपत्ती में हैवान बन गया है। वैसे भी देश भगवान भरोसे चल रहा है और कुछ नेक नीयतो की पुण्याई है जो थोड़ी साँस दे रही है पीड़ितों को, सावधानी से ही लोग ऑनलाइन फ्रॉड से बच सकते है।
Support Us

Leave a Reply

Your email address will not be published.