जैन समाज के बच्चों को मिलेगी नि:शुल्क शिक्षा जो बच्चे पिता व अर्निंग मेम्बर खो चुके

जैन समाज के बच्चों को मिलेगी नि:शुल्क शिक्षा जो बच्चे पिता व अर्निंग मेम्बर खो चुके Pradakshina Consulting PVT LTD Support Us

मैट्स यूनिवर्सिटी देगी उच्च शिक्षा

—————

समाज के अनेक स्कूल-कॉलेज

संचालकों ने दी स्वस्फूर्त स्वीकृति

—————

जैन संवेदना ट्रस्ट सहित समाज के

विभिन्न संगठनों के संयुक्त

आह्वान पर क्रियान्वयन शुरू

००००००००००

  • रायपुर/एक्ट इंडिया न्यूज/20/05/2021
  • वैश्विक महामारी कोरोना की आपदा ने जिन जैन परिवारों के बच्चों से पिता ( अर्निंग मेम्बर ) छीन लिया, उन परिवार के बच्चों की नि:शुल्क शिक्षा के लिए जैन संवेदना ट्रस्ट व समाज के विभिन्न संगठनों के संयुक्त आह्वान पर राजधानी के जैन अनुयायी अनेक स्कूल-कॉलेज संचालकों द्वारा स्वस्फूर्त स्वीकृति दी गई है।
  • जैन संवेदना ट्रस्ट के महेन्द्र कोचर व विजय चोपड़ा ने बताया कि पिता अथवा अर्निंग मेम्बर विहीन हुए जैन परिवारों के ऐसे बच्चों को नि:शुल्क उच्च शिक्षा प्रदान करने की घोषणा मैट्स यूनिवर्सिटी रायपुर के चान्सलर गजराज पगारिया द्वारा की गई है। बाहरवीं के बाद की कॉलेज की पूरी पढ़ाई मैट्स यूनिवर्सिटी में जहाँ तक छात्र पढ़ना चाहे गजराज पगारिया ने इसकी निःशुल्क शिक्षा की जवाबदारी ली है।
  • इसके अलावा जैन संवेदना ट्रस्ट के आह्वान पर प्रभावित जैन परिवार के ऐसे बच्चों को नि:शुल्क स्कूली शिक्षा प्रदान करने की स्वीकृति भी वर्धमान हायर सेकेंडरी स्कूल, सचदेवा इंटरनेशनल स्कूल, जे डी डागा स्कूल, जैन पब्लिक स्कूल, श्री आदिश्वर जैन स्कूल द्वारा दी गई है।

जैन महिलाओं के लिए कम्प्यूटर,

टैली, बैंकिंग व एकाउंट प्रशिक्षण कैम्प

  • जैन संवेदना ट्रस्ट के विजय चोपड़ा व मोती जैन ने बताया कि जिन परिवारों में पुरुष मुखिया नहीं रहे उन परिवारों की महिलाओं को स्वावलंबी बनाने के लिए जैन संवेदना ट्रस्ट द्वारा 15 दिवसीय अकाउंट टैली, कम्प्यूटर व हाउ टू ऑपरेट बैंकिंग तथा रोजगार मूलक अनेक विधाओं पर प्रशिक्षण शिविर संचालित किया जाएगा. जिसमें विशेषज्ञों द्वारा प्रशिक्षण दिया जाएगा । कोरोना नियमों का पालन सुनिश्चित कर सीमित संख्या में प्रशिक्षण दिया जायेगा।
अगर आपको यह पोस्ट जानकारी पूर्ण उपयोगी लगे तो कृपया इसे शेयर जरूर करें।

दिल्ली में दर्ज किए गए कोरोना के इतने नए केस

केंद्र सरकार लगातार विमानों के द्वारा राज्यों को पहुँचाई जा रही कोरोना राहत सामग्री – प्रीतेश गांधी

15 हजार लगाकर 3 महीने में कमाएं 3 लाख रुपये, जानें क्या है बिजनेस

Support Us

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *