निर्जला व्रत में आगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका बूढ़ा तालाब में करेंगी वादा निभाओ आंदोलन

निर्जला व्रत में आगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका बूढ़ा तालाब में करेंगी वादा निभाओ आंदोलन Pradakshina Consulting PVT LTD Support Us

  • रायपुर/एक्ट इंडिया न्यूज
  • छत्तीसगढ़ जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने आज रायपुर के गुढ़ियारी चौक में स्थित सामुदायिक भवन में प्रदेश स्तरीय बैठक किया। इस बैठक में यह निर्णय लिया है कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका 9 सितम्बर को रायपुर स्थित बुढ़ातालाब में एक दिवसीय हड़ताल करेगी। छत्तीसगढ़ सरकार को वादा याद दिलाएगी। इस आंदोलन में पूरे प्रदेश भर से तिजहारिन आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाएं उपवास हालत में ही आंदोलन करेंगी।
  • गौरतलब है कि 5 मार्च 2018 से 22 अप्रैल 2018 पचास दिन के हड़ताल में ईदगाह भाठा रायपुर में भाजपा सरकार के समय जब आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने अपनी मांगों लेकर हड़ताल किया था। तब छत्तीसगढ़ के वर्तमान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पंडाल पर पहुंच कर वादा किया थे कि अगर छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनती है तो हड़ताल अवधि का मानदेय उनकी सरकार द्वारा दिया जाएगा। साथ छत्तीसगढ़ की सरकार से हमारी मांग है कि आंगनबाड़ी में पर्यवेक्षक भर्ती की जाय और आयु सीमा में की छूट दी जाय।
  • आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने आगे कहा कि छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में पूरे प्रदेश के आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं से वादा किया था कि कांग्रेस की छत्तीसगढ़ में सरकार बनते ही उन्हें कलेक्टर दर पर मानदेय दिया जायेगा। छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार को प्रदेश में पूरे ढाई साल का कार्यकाल बीत जाने के बाद भी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की सुध नहीं ले रही है। सत्ता में आते ही कांग्रेस की सरकार ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं से किया गया वादा जैसे भुला दिया है।
निर्जला व्रत में आगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका बूढ़ा तालाब में करेंगी वादा निभाओ आंदोलन Pradakshina Consulting PVT LTD
  • आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने जारी विज्ञप्ति में कहा है कि एक तरफ तो छत्तीसगढ़ की सरकार छत्तीसगढ़ में महिलाओं का सम्मान करने की बात करते हुए उन्हें तीजा त्यौहार के लिए छुट्टी दे रही है लेकिन सरकार ये भुल जा रही है कि साढ़े  छःहजार और बत्तीस सौ  में आज महिलाएं अपने घर को कैसे चला रही है। इस दिशा में सरकार की कोई सोच नजर नहीं आ रही है। वैश्विक महामारी कोरोना काल में भी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताएं और सहायिकाओं द्वारा जान जोखिम में डालकर लगातार काम करते रहे हैं। छत्तीसगढ़ सरकार की योजनाओं को घर-घर पहुंचाने में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताएं एक कदम अग्रणी होकर फ़लीभूत कर रही है। बावजूद इसके सरकार का ये रवैय्या कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं से किया गया वादा नहीं निभा रहे हैं।
  • इसलिए आज दिनांक 29 अगस्त को प्रदेश भर के जिला और ब्लॉक के पदाधिकारियों ने ये फैसला लिया है कि 9 सितम्बर तीजा त्यौहार के दिन, तिजहारिन बहने आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाएं रायपुर के बूढ़ाताल में वादा निभाओं आंदोलन करने के लिए बाध्य हो रही है। छत्तीसगढ़ जुझारू आगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने आगे कहा है कि 9 सितम्बर को आंदोलन के बाद भी छत्तीसगढ़ की भूपेश सरकार आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं से किये गये वादे नहीं निभाते है तो पूरे प्रदेश भर में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताएं चरणबध आंदोलन तक करते रहेंगी, जब तक चुनावी घोषणा पत्र में किये गये वादे सरकार पूरा नहीं कर लेती।
  • प्रदेश भर से बैठक में पहुंची आंगनबाड़ी कार्यकर्ताएं ने प्रदेश सरकार से निवेदन किया है कि 9 सितंबर को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल धरना स्थल पहुंच कर उन्हें उपहार स्वरूप उनकी मांगे पूरी कर उन्हें भेंट दे।
  • आज के प्रदेश स्तरीय आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की बैठक में मुख्य रूप से प्रदेशाध्यक्ष पद्मावती साहू, उपाध्यक्ष भुनेश्वरी तिवारी, सुधा रात्रे, संगठन सचिव वासंती वर्मा, संगठन कोषाध्यक्ष हेमिन सोनी, प्रांतीय पदाधिकारी विभा श्रीवास्तव, सारिका तिवारी, ममता डीडी, रोशनी शर्मा, नीता काजवे एवं महासमुन्द जिला अध्यक्ष सुलेखा शर्मा, रेवती वत्सल, प्रमिला ठाकुर, गीता बाग, लता तिवारी, सोनबाई बंजारे, शतरूपा ध्रुव, गायत्री बाउल, लक्ष्मी महंत, वेरना तिर्की, दुलौरिन निषाद,  विद्या महंत,  लक्ष्मी लता सहित प्रदेश भर से पहुंची आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवम सहायिका बैठक में उपस्थित थीं।

निर्जला व्रत में आगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका बूढ़ा तालाब में करेंगी वादा निभाओ आंदोलन Pradakshina Consulting PVT LTD

Support Us

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *