कोरोना उत्पत्ति की खुली पोल – वुहान लैब से ही लीक हुआ वायरस

कोरोना उत्पत्ति की खुली पोल - वुहान लैब से ही लीक हुआ वायरस Pradakshina Consulting PVT LTD Support Us

भारत के वैज्ञानिकों के इस

दावे से खुली चीन की ‘पोल’

  • कोरोना वायरस की उत्पत्ति को लेकर चीन दुनियाभर में निशाने पर है। हिन्दुस्तान मिडिया की रिर्पोट के अनुसार अब भारतीय वैज्ञानिक दंपत्ति ने दावा किया है कि कोरोना वायरस चीन के वुहान लैब से लीक हुआ था। पुणे के रहने वाले वैज्ञानिक दंपत्ति डॉ. राहुल बाहुलिकर और डॉ. मोनाली राहलकर ने दुनिया के अलग-अलग देशों में बैठे अनजान लोगों के साथ मिलकर इंटरनेट से इस संबंध में सबूत जुटाए हैं। जिन लोगों ने इंटरनेट से सबूत एकत्रित किए हैं, वे पत्रकार, गुप्तचर या खुफिया एजेंसियों के लोग भी नहीं हैं। वे अनजान लोग हैं, जिनका मुख्य स्रोत ट्विटर और दूसरे ओपन सोर्स हैं।
इन लोगों ने अपने समूह को ड्रैस्टिक (डीसेंट्रलाइज्ड रेडिकल ऑटोनॉमस सर्च टीम इनवेस्टिगेटिेंग कोविड-19) का नाम दिया है।
  • इन लोगों का मानना है कि कोरोना चीन के मछली बाजार से नहीं बल्कि वुहान की लैब से निकला है। इनकी इस थ्योरी को पहले षड्यंत्र बताकर खारिज कर दिया गया था। लेकिन इसने अब दुनिया का ध्यान अपनी तरफ खींचा है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने भी इस मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं।
  • ये लोग चीनी दस्तावेज का अनुवाद कर अपने स्तर पर इसकी जांच कर रहे हैं। चाइनीज एकेडमिक पेपर और गुप्त दस्तावेजों के अनुसार इसकी शुरुआत साल 2012 से होती है। उस समय छह खदान श्रमिकों को यन्नान के मोजियांग में उस माइनशाफ्ट को साफ करने भेजा गया था जहां चमगादड़ों का आतंक था। उन श्रमिकों की वहां मौत हो गई। साल 2013 में वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के डायरेक्टर डॉ. शी झेंगली और उनकी टीम माइनशाफ्ट से सैंपल को अपने लैब लेकर आ गई।
  • शी का कहना है कि श्रमिकों की मौत गुफा में मौजूद फंगस की वजह से हो गई। इसके उलट ड्रैस्टिक का दावा है कि शी को एक अज्ञात कोरोना स्ट्रेन मिला जिसे उन लोगों ने आरएसबीटीकोव /4491 का नाम दिया। रिपोर्ट के अनुसार वुहान वायरोलॉजी इंस्टीट्यूट के साल 2015-17 के पेपर में इस का विस्तार से जिक्र किया गया है। ये बहुत ही विवादित प्रयोग थे जिन्होंने वायरस को बहुत अधिक संक्रामक बना दिया। यह थ्योरी बताती है कि एक लैब की गलती कोविड-19 के विस्फोट का कारण बनी।

चीनी वायरोलॉजिस्ट ने कहा

फाउची के इ-मेल से लीक की

बात सच साबित हुई

  • एक चीनी वायरोलॉजिस्ट ने कहा है कि अमेरिका के शीर्ष कोरोना वायरस सलाहकार एंथनी फाउची  के ई-मेल साबित करते हैं कि कोरोना की उत्पत्ति वुहान के लैब से ही हुई थी। डॉक्टर ली-मेंग यान जो उन लोगों में से थीं, जिन्होंने सबसे पहले कोरोना के वुहान की लैब से लीक हुए होने की बात कही थी। डॉक्टर ली-मेंग यान कोरोना पर शोध करने वाले पहले लोगों में से एक थीं और उन्होंने खुलासा किया था कि बीजिंग पर इस मामले को छुपाने का आरोप लगाने के बाद उन्हें छिपने के लिए मजबूर किया गया।
अगर आपको यह पोस्ट जानकारी पूर्ण उपयोगी लगे तो कृपया इसे शेयर जरूर करें।

बड़ी खबर : व्यापमं घोटाले के बाद छत्तीसगढ़ के विधायक के नाम पर डिग्री घोटाला! – कब लगेगा घोटालों पर ताला ?

केन्द्र सरकार की योजना : रायपुर में शुरू हुआ मेगा फूड पार्क, किसानों और बेरोजगारों को होगा लाभ

जैन संवेदना ट्रस्ट कोरोना विपदाग्रस्त जैन परिवारों की मदद कर रहा

जूही चावला पर लगा 20 लाख रुपये का जुर्माना

ऐतिहासिक तथ्य : रायगढ़ जिले में मारवाड़ी कब से हैं ? जानकर होगें हैरान – पढ़िये पूरा लेख

27 छत्तीसगढ़ बटालियन एन सी सी ने पर्यावरण दिवस पर पौधे लगाकर शुरु किया वृक्षारोपण अभियान

सत्तापक्ष के जनप्रतिनिधि सिर्फ बयानबाजी में व्यस्त – योगेश तिवारी

क्रेडिट कार्ड का बिल भरकर एक शख्स ने कमाए 2 करोड़ रुपये, जानें कैसे

जानिए कौन है जिसने भगोड़े मेहुल चोकसी को ‘जाल में फंसाया’

कोरोना उत्पत्ति की खुली पोल - वुहान लैब से ही लीक हुआ वायरस Pradakshina Consulting PVT LTD

Support Us

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *