सत्तापक्ष के जनप्रतिनिधि सिर्फ बयानबाजी में व्यस्त – योगेश तिवारी

सत्तापक्ष के जनप्रतिनिधि सिर्फ बयानबाजी में व्यस्त - योगेश तिवारी Pradakshina Consulting PVT LTD Support Us

शहर की 28 हजार आबादी मीठे जल से वंचित, वाटर एटीएम में घण्टो लाइन लगाने को मजबूर शहरवासी

—————

22 करोड़ के योजना की बर्बादी के लिए सत्तापक्ष जिम्मेदार, बड़े-बड़े दावे खोखले साबित हो रहे।

—————
  • बेमेतरा/एक्ट इंडिया न्यूज
  • मुख्य पाइप लाइन क्षतिग्रस्त होने की वजह से शहरी जल आवर्धन योजना के अंतर्गत शहर में बीते 6 महीने से मीठे पानी की आपूर्ति ठप है, इस मामले में सम्बंधित विभाग व जिला प्रशासन की उदासीनता के कारण आमजनों में खासी नाराजगी है। उल्लेखनीय है कि बेमेतरा शहर खारा पानी प्रभावित क्षेत्रों में शामिल हैं।
  • उक्त बातें किसान नेता योगेश तिवारी ने कही उन्होंने कहा कि क्षतिग्रस्त पाइप लाइन की मरम्मत को लेकर सम्बबंधित विभाग गंभीर नहीं है, नतीजतन शहर के लोगों को मीठे पानी की आपूर्ति नहीं होने से उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। शहर के मध्य से करीब 33 करोड़ की लागत से 3 किलोमीटर टू लेन सड़क का निर्माण प्रगति पर है, सड़क के बेस निर्माण के लिए खोदे गए गड्ढे से शहरी जल आवर्धन योजना की पाइप लाइन जगह-जगह से क्षतिग्रस्त हो गई है।
विभागों में सामंजस्य के अभाव खामियाजा शहरवासियों को भुगतना पड़ रहा 
  • किसान नेता ने कहा कि विभागों में सामंजस्य के अभाव का खामियाजा शहरवासियों को भुगतना पड़ रहा है, सड़क निर्माण के दौरान बरती गई कोताही के कारण शहर के सिग्नल चौक से लेकर अशोका विहार कॉलोनी तक मुख्य पाइप लाइन कई स्थानों से क्षतिग्रस्त हो गई है, पाइप लाइन की मरम्मत को लेकर पीएचई विभाग की ओर से लोक निर्माण विभाग को 25 लाख रुपए का डिमांड भेजा गया था, लोक निर्माण विभाग की ओर से लॉक डाउन के पूर्व पीएचई विभाग में डिमांड के अनुसार धनराशि जमा कर दी है। बावजूद 3 महीने बाद भी पाइपलाइन की मरम्मत का काम शुरू नहीं हो पाया है।
सत्तापक्ष के जनप्रतिनिधि इस
पर बोलने को तैयार नही
  • किसान नेता ने कहा कि स्थानीय सत्तापक्ष के जनप्रतिनिधि इस मुद्दे पर बोलने को तैयार नही है। जन सरोकार के बड़े-बड़े दावे खोखले साबित हो रहे हैं। बीते 6 महीने से शहर के लोगो को मीठे जल की आपूर्ति नही हो रही है। 22 करोड़ की योजना की बर्बादी के लिए सत्तापक्ष जिम्मेदार है। मीठे पानी के लिए शहर के सैकड़ो गरीब व मध्यमवर्गीय परिवार के लोगो को वाटर एटीएम में घण्टो लाइन मेें लगने बाद भी मीठे पानी की उपलब्धता सुनिश्चित नही है। उन्होने आरोप लगाया कि सत्तापक्ष के जनप्रतिनिधियों को जन सरोकार से कोई लेना देना नही है।
समयसीमा में मरम्मत कार्य पूरा नहीं
होने पर बारिश मे होगी काफी दिक्कतें  
  • विभाग से मिली जानकारी के अनुसार लॉकडाउन के दौरान निविदा में किसी भी एजेंसी का भाग नहीं लेने के कारण विलंब हुआ है। वर्तमान में कुछ दिनों में कार्य संबंधित निविदा को ओपन कर एजेंसी अधिकृत की जाएगी, संबंधित एजेंसी को वर्क आर्डर तिथि से एक माह में कार्य पूर्ण करना है। गौरतलब हो कि मानसून आगमन नजदीक है, ऐसी स्थिति में समयसीमा में पाइपलाइन की मरम्मत कार्य पूरा नहीं होने पर बारिश मे काफी दिक्कतें आएंगी।
अगर आपको यह पोस्ट जानकारी पूर्ण उपयोगी लगे तो कृपया इसे शेयर जरूर करें।

सत्तापक्ष के जनप्रतिनिधि सिर्फ बयानबाजी में व्यस्त - योगेश तिवारी Pradakshina Consulting PVT LTD

Support Us

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *