अभिव्यक्ति की आजादी और लोकतंत्र को सबसे ज्यादा नुकसान मोदी सरकार ने पहुंचाया है

अभिव्यक्ति की आजादी और लोकतंत्र को सबसे ज्यादा नुकसान मोदी सरकार ने पहुंचाया है Pradakshina Consulting PVT LTD Support Us

भाजपाई को अभिव्यक्ति की

आजादी का नाम लेने का भी

नैतिक अधिकार नहीं

—————

कूट रचित दस्तावेज का

उपयोग व प्रसार अपराध

—————

  • रायपुर/एक्ट इंडिया न्यूज/22/05/2021
  • छत्तीसगढ़ काँगेस ने ऑनलाईन पत्रकारवार्ता में भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा नेताओं की नौटंकी रूपी दिशाहीन आंदोलन पर प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष गिरीश देवांगन ने कहा कि भाजपा नेता आपदा में अवसर की तलाश कर रहे हैं। रमन सिंह जैसे वरिष्ठ भाजपा नेताओं की गतिविधियों से लोकतंत्र को नुकसान हो रहा है। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के विरुद्ध हुए एफ आई आर पर भाजपाई स्वयं चिंतन करें तो उन्हें स्वयं उन्हें रमनसिंह को दोषी करार देने के लिए भी धरना करना पड़ेगा।
  • अभिव्यक्ति की आजादी और लोकतंत्र को सबसे ज्यादा नुकसान इन 7 वर्षों में मोदी सरकार ने पहुंचाया है। लेकिन अभिव्यक्ति की आजादी के नाम से किसी कूट रचित दस्तावेज के उपयोग और प्रसार को उचित नहीं ठहराया जा सकता है। किसी  के सम्मान को नुकसान पहुंचाने के लिए की गयी कूट रचना और ऐसा कृत्य जिससे लोक शांति भंग हो वह अभिव्यक्ति की आजादी नहीं है।
  • भाजपा नेताओं द्वारा सिर्फ डॉ रमन ने एक ट्वीट ही तो किया है कहना हास्यास्पद है क्योंकि एक जिम्मेदार राजनीतिक पद पर रहते हुए अपनी राजनीतिक निष्ठा प्रदर्शित करने के लिए कूटरचित दस्तावेज को असल रूप में सोशल मीडिया में जारी करना गंभीर अपराध है। यहां यह बताना भी आवश्यक है कि जब से केंद्र में भाजपा की सरकार  बैठी है और उसके निर्णयों और असफलता देश सामने उजागर हुए है।
  • तो उस समय भाजपा के लोग नए प्रपंच कर जनता का ध्यान असफलता से हटाने के लिए साजिशों में संलिप्त रहते हैं, कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए प्रारंभ से ही केंद्र की भाजपा सरकार पूरी तरह से असफल रही और तो और मानव जीवन को सुरक्षा कवच प्रदान करने वाली वैक्सीन लगाने की समय सीमा में लगातार केंद्र सरकार द्वारा किया गया परिवर्तन वेक्सीन मामले में भी केंद्र सरकार की विश्वसनीयता को भी कटघरे में खड़ा कर दिया गया है।
  • भाजपा प्रवक्ता के ट्वीट के बाद उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष उपाध्यक्ष महासचिव केंद्रीय मंत्री सभी ने उन कूटरचित दस्तावेजों को सोशल मीडिया पर सार्वजनिक कर कांग्रेस पार्टी को बदनाम करने का जो षड्यंत्र रचा वह लोकतत्र में स्वीकार्य नहीं है अपराध के दायरे में आने वाले व्यक्ति और उसके कृत्य को संरक्षण देना या उसके कृत्य को दोहराना भी अपराध की श्रेणी वाला कृत्य है।
अगर आपको यह पोस्ट जानकारी पूर्ण उपयोगी लगे तो कृपया इसे शेयर जरूर करें।

अमेरिका की तरह भारत में भी लोग बगैर मास्क ले सकेंगे सांस…आखिर कब?

डीएपी खाद का मूल्य ना बढ़ाए जाने का फैसला किसानों और कांग्रेस के संघर्ष का परिणाम – काँग्रेस

राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर 8 बधिरों को श्रवण यन्त्र वितरित – महेन्द्र कोचर

एक प्याले चाय की कीमत 9 करोड़ रुपए – दुनिया की सबसे महंगी चाय

कोरोना की जांच अब घर बैठे 250 रुपए में कोविसेल्फ से करें – जानें इस्तेमाल का तरीका

ब्लैक फंगस : 11 राज्यों में महामारी घोषित, सबसे ज्यादा केस इस राज्य में

कोरोना से मुक्ति के लिये गोदोहासन मुद्रा में सकल जैन समाज ने किया सवा पांच लाख नवकार मंत्र जाप

यास चक्रवात चेतावनी के कारण रेलवे ने 9 ट्रेनों को किया रद्द

Support Us

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *